Hindi

Welcome To Jamuna Prasad Verma P.G. Arts & Commerce college


शासकीय जमुना प्रसाद वर्मा स्नातकोत्तर कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय बिलासपुर का हिंदी विभाग प्रतिष्ठित और अतीत के वैभव से संपन्न है। हिंदी विभाग के लिए यह गर्व का विषय हे कि सन् 1944 में स्थापित इस महाविद्यालय के संस्थापक प्राचार्य मूर्धन्य हिंदी साहित्यकार श्री बलदेव प्रसादजी मिश्र थे | महाविद्यालय में आरंभ से ही स्नातक और स्नातकोत्तर कक्षाएं अनवरत् रुप से संचालित हो रही है। गुणवत्ता का एक प्रमाण यह भी है कि हिंदी विभाग के छात्र/छात्राओं ने विश्वविद्यालय स्तर पर स्नातक एवं स्नातकोत्तर कक्षा में स्वर्णपदक प्राप्त कर महाविद्यालय का नाम रोशन किया । सभी प्राध्यापक समय-समय पर राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय सेमीनारों, कार्यशालाओं आदि में प्रतिभागिता प्रदर्शित करते हुए निरंतर ज्ञान-संवर्धन तथा साहित्य एवं संस्कृति के संरक्षण, परिरक्षण विकास-परिवर्धन हेतु सोच एवं संवेदना दोनों स्तरों पर पूरी निष्ठा से प्रयासरत है|
महाविद्यालय के हिंदी विभाग में स्नातक एवं स्नातकोत्तर कक्षाओं में समस्त अधुनातन पाठ्य विधियों का उपयोग करते हुए अनेक नवाचार (इनोवेशन) एवं विविध परियोजनाओं (प्रोजेक्ट्स) आदि के माध्यम से अत्यंत सार्थक शिक्षण कार्य किया जाता है ।

कालान्तर में अनेक विद्वान प्राध्यापकों ने विभाग को अपनी सेवाएं प्रदान कर समृद्ध किया है। इस महाविद्यालय के हिंदी विभाग में विचारक प्राध्यापकों की लंबी श्रृंखला रही है।

जैसे:-

1. डॉ सियाराम सक्सेना प्रवर 2 डॉ. गंगानारायण त्रिपाठी 3. डॉ आर डी सक्सेना 4. डॉ कुसुम सक्सेना 5. अचरज मिश्र 6. डॉ सरोज मिश्र 7. डॉ. विनय कुमार पाठक 8. डॉ सुमन वर्मा 9, डॉ. ज्योति पाण्डेय

10. डॉ. राजाराम शुक्ल 11. डॉ. मनहरण लाल स्वर्णकार 12. डॉ. कल्याणी वर्मा 13. डॉ. शीलप्रभा मिश्र 14. डॉ. अंजली शर्मा 15 डॉ. नंदिनीतिवारी आदि |

वर्तमान में स्नातक एवं स्नातकोत्तर स्तर पर हिंदी साहित्य के साथ-साथ हिंदी भाषा का भी शिक्षण कार्य किया जाता है । वर्तमान सत्र 2016-17 से बिलासपुर विश्वविद्यालय ने स्नातकोत्तर हिंदी, एम.ए. पूर्वार्द्ध की कक्षाओं में सेमेस्टर पद्धति लागू की है | जिसकी नियमित कक्षाओं के साथ-साथ, समय-समय पर विषय से संबंधित व्याख्यान भी कराया जाता है । हिंदी साहित्य परिषद के गठन के अंतर्गत भी कार्यक्रम आयोजित किए जाते है । पत्रकारिता प्रशिक्षण के अंतर्गत व्याख्यान एवं लोक साहित्य के अंतर्गत शैक्षणिक भ्रमण का आयोजन भी किया गया |

विषय विशेषज्ञता के वर्तमान दौर में प्रयोजन मूलक हिंदी, लोक साहित्य और पत्रकारिता जैसे अनिवार्य वैकल्पिक समूह भी उपलब्ध कराये गये हैं।


हिंदी विभाग द्वारा भावी योजनाएं निर्धारित की गई है जो इस प्रकार है:-


1. विभागीय स्तर पर संदर्भ ग्रंथों की वृद्धि |

2. राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी का आयोजन |

3. शोध परियोजनाओं पर कार्य |

4. पीपीटी द्वारा संबंधित प्रश्न पत्रों पर तैयार व्याख्यान माला |

5. पाट्यक्रम को दृश्य-श्रव्य माध्यम में रुपांतरित करना |

इस प्रकार हमारे विभाग का दृष्टिकोण है कि एक सांस्कृतिक रेनेसा को पुर्नजाग्रत करना, भारत की तरह बहुवचनीय छत्तीसगढ़ की संस्कृति के संदर्भ में भाषा, लोक साहित्य और लिपियों का विलोपन बचाते हुए संवर्धित करना |





Hindi Department Faculties


S NoFaculty PhotoFaculty NameQualificationDepartmentDesignationMobile No
1 Dr. Smt. Jay Shree ShuklaPhd.HindiProfessor-